Sunday, February 10, 2019

वर्षो का अनुभव पुस्तको में



आप सभी लोगो को मेरा नमस्कार और  मैं गुरप्रीत सिंह जी को  धन्यबाद करता हूँ आपकी वजह से मेरा यह पोस्ट पूर्ण हो सका है। जैसा कि इस पोस्ट का शीर्षक है “वर्षो का अनुभव पुस्तको में” यदि किसी पुस्तक मे अपने वर्षो के अनुभवो को बताया जा रहा है तो यकीन मानिये वह पुस्तक हमारे लिये बहुत उपयोगी सिद्ध होगी। हमारे सामने बहुत सी समस्याए ऐसी होती है जिनके हल खोजने कि कोशिश  तो हम बहुत करते है। लेकिन हमे उनके जबाब नही मिलते है। मैने हाल ही में कुछ पुस्तको को पढा है जिसमे मैने पाया है कि अक्सर हम समस्याओ का समाधान विपरीत तरीके से करने कि कोशिश करते है। जैसा कि मैने “रॉबर्ट टी. कियोसाकी” की पुस्तक “रिच डैड पुअर डैड” में पढा है कि व्यक्ति अपनी समस्या से बचने के लिये जितनी ज्यादा कोशिश करता है वो उसमे उतना ही फसता जाता है क्योकि वह समस्या से बचने के लिये जितने भी प्रयास करता है वह सब विपरीत दिशा मे करता है। हालाकि “रिच डैड पुअर डैड” पुस्तक पैसो के बारे मे जिसमे यह बताया गया है कि अमीर लोग अपने बच्चों को ऐसा क्या सिखाते हैं, जो गरीब और मध्यम वर्ग के माता-पिता नहीं सिखाते। इसके अलावा मैने “डेल कारनेगी” की पुस्तक “चिंता छोडो सुख सेजियो” एवं “लोक व्यवहार” पढा हूँ। “चिंता छोडो सुख सेजियो”  इस पुस्तक मे हमे यह बताया गया है कि हम अपनी जीवन में कितनी चिंता व्यर्थ में करते है जिनका कोइ सार नही है तथा चिंता से मुक्ती पाकर कैसे हम सुखी जीवन व्यतीत कर सकते है। “डेल कारनेगी” कि पुस्तक “लोक व्यवहार” में हमे यह बताया गया है कि हम दुसरे लोगो को किस प्रकार खुश रख सकते है, उनसे किस प्रकार काम ले सकते है, यदि दुसरो से काम लेना है तो उस व्यक्ती में किसी कार्य को करने कि प्रबल इच्छा कैसे उसमे जाग्रत कर सकते है। इस पुस्तक को पढने के बाद आप समझ सकते है कि हमे दुसरे लोगो को किस प्रकार प्रभावित कर सकते है। इस पुस्तक को मैने न सिर्फ पढा है बल्कि इसमे दिये गये टिप्स का मैंने प्रयोग भी किया है जो कि मेरे लिये  बहुत लाभदायक साबित हुआ। इनके अलावा मैने समय प्रबंधन पुस्तक का भी अध्ययन किया है जिसमे बताया गया है कि हम कैसे अपने समय को बर्बाद करते है तथा हम अपने समय को किस प्रकार बचा कर उनका उपयोग कर सकते है यदि आप लोगो को लगता है कि मेरे पास समय नही बचता या मेरे पास समय कि कमी या फिर आप सोच रहे है कि उपर मैने जिन पुस्तको कि चर्चा कि है  उनको पढने के लिये आपके पास समय नही है तो आपके लिये  सबसे पहले “समय प्रबंधन” की पुस्तक को पढना उचित  होगा। मुझे पुस्तक पढना बिल्कुल भी पसंद नही था लेकिन जब मैने इस प्रकार कि पुस्तको के बारे मे जाना तो मेरी भी इच्छा हुइ कि इस प्रकार कि पुस्तको को पढा जाये जब से मैने इस प्रकार कि पुस्तको पढा है तब से पुस्तक पढना  एक हॉबी बन गयी है। जब भी मै इस प्रकार कि पुस्तको को खरीदता हू तो लगता है कि मै इन्हे कितनी जल्दी पढकर खत्म करू। मैने समय प्रबंधन पुस्तक को सिर्फ एक दिन मे पढकर खत्म किया। इन सभी के अलावा मैने और भी पुस्तको को पढा है जिनके बारे मे मै यदि बाताउंगा तो यह पोस्ट बहुत बडा हो जयेगा। जब भी आप इस प्रकार कि पुस्तको को पढेंगे आपको अपने अंदर एक नयी ऊर्जा का अनुभव होगा साथ ही आपके मन में सकरात्मक विचार उत्पन्न होंगे जो आपको आंगे बढने में बहुत सहायक होंगे। आशा करता हू की आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा। मै और भी बहुत सारे पोस्ट लिखना चाहता हू जिसके लिये मुझे आपलोगो का साथ चाहिये। आप हमे अपना SUGGESTIONS Website के माध्यम से दे सकते है।

                               

Reactions:

0 comments:

Post a Comment